ALL NATIONAL WORLD RAJASTHAN POLITICS HEALTH BOLLYWOOD DHARMA KARMA SPORTS BUSINESS STATE
श्री श्री र​विशंकर के जन्मदिन पर मेडिटेशन कार्यक्रम शुरू ।
May 13, 2020 • Anil Mathur • NATIONAL

बेगलूरू, 13 मई । आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक,गुरुदेव श्री श्री रविशंकर,जो  आज 64 वर्ष के हो गए हैं,ने चिकित्सा व्यवसाईयों,पुलिस कर्मियों और सबसे आगे खड़े होकर कार्य करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों के लिए  एक विशेष ऑनलाइन ब्रेथ एंड मेडिटेशन कार्यक्रम लॉन्च किया गया।इस कार्यक्रम में प्रतिदिन २० लाख लोग गुरुदेव के साथ ध्यान कर रहे हैं।

 गृह राज्यमंत्री, जी किशन रेड्डी और प्रख्यात हृदय के सर्जन,डॉ देवी शेट्टी ने गुरुदेव श्री श्री रविशंकर के साथ मिलकर वर्कशॉप का उद्घाटन किया।
गुरुदेव श्री श्री रविशंकर ने कहा," डॉक्टरों को अपने घरों पर भी चिंताओं को शांत करना है।ऐसे समय में हमें अपने मन को मजबूत करने और हमारी भावनाओं को स्थिर करने की आवश्यकता है।ध्यान के द्वारा भीतर की शक्ति को खोजें।कुछ मिनटों के प्रतिदिन श्वसन अभ्यासों और ध्यान के द्वारा आप चिंता का सामना कर सकते हैं।श्वास शरीर और मन के बीच की कड़ी है।श्वसन तकनीकों और ध्यान के द्वारा हम अपने प्रतिरोधक तंत्र को मजबूत कर सकते हैं।सम्पूर्ण आर्ट ऑफ लिविंग बंधुत्व और सारा देश आपके साथ है।"

संस्थान ने एक राष्ट्रीय हेल्पलाइन ( 080-676-12338 ) खोली है,जहां आर्ट ऑफ लिविंग के शिक्षक लॉक डाउन में तनाव और चिंता से गुजर रहे लोगों को परामर्श देंगे।रोग निवारण और दीर्घ काल में ठीक हो जाने के उद्देश्य का समर्थन करते हुए,संस्थान ने शराब,ड्रग्स और अन्य नशीले पदार्थों के ना मिलने के कारण उत्पन्न हो रहे अत्यधिक तनाव और  मनोवैज्ञानिक लक्षणों से गुजर रहे लोगों की मदद करने के लिए भी एक हेल्पलाइन लॉन्च की है।

संस्थान के स्वयं सेवक,गुरुदेव के द्वारा प्रेरित होकर लोगों की लॉक डाउन में चिंता का सामना करने,अधिक शांत और रचनात्मक होने में मदद करने के लिए लगातार कार्य कर रहे हैं।प्रशिक्षित आर्ट ऑफ लिविंग शिक्षकों के द्वारा आयोजित ऑनलाइन मेडिटेशन एंड ब्रेथ वर्कशॉप में लाखों लोग हिस्सा ले रहे हैं।

जब से लॉक डाउन शुरू हुआ है,तब से गुरुदेव प्रतिदिन दो बार ध्यान करा रहे हैं,जिसमें प्रतिदिन १४० देशों के २० लाख लोग हिस्सा ले रहे हैं।हाल ही में गूगल में एक ट्वीट के अनुसार " मेडिटेट विद श्री श्री " को पिछले कुछ दिनों में सबसे अधिक सर्च किया गया है,क्योंकि बहुत सारे लोग सजग बनने के तरीके ढूंढ़ रहे हैं।