ALL NATIONAL WORLD RAJASTHAN POLITICS HEALTH BOLLYWOOD DHARMA KARMA SPORTS BUSINESS STATE
प्रतियोगी परीक्षाओं को लेकर अनिश्चितता शीघ्र समाप्त हो । मुख्यमंत्री
April 27, 2020 • Anil Mathur • STATE

चंडीगढ़, 27 अप्रैल- हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आज केन्द्र सरकार से एनडीए, इंजीनियरिंग कॉलेजों एवं मेडिकल कॉलेजों में दाखिले के लिए 12वीं कक्षा के बाद होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे कि कम्बाइंड डिफेंस सर्विसिज़, जेईई तथा एनईईटी(नीट) के संबंध में चल रही अनिश्चितता को शीघ्र समाप्त करने के लिए तुरंत कदम उठाने का आग्रह किया है।


प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी के साथ आज राज्यों के मुख्यमंत्रियों की हुई वीडियो कांफे्रसिंग में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रधानमंत्री को अवगत करवाया कि हरियाणा कोरोना वायरस से उत्पन्न संकट की इस घड़ी में हर स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है और आर्थिक गतिविधियों को सुरक्षित रूप से पुन: शुरू करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 के संबंध में प्रदेश के वर्तमान आंकड़े काफी आशाजनक हैं। प्रदेश में प्रतिदिन 3115 सैम्पल टैस्ट किए जा रहे हैं। आज तक किए गए कुल 22,243 टैस्ट में से केवल 299 पॉजिटिव पाए गए हैं। इन सभी को अस्पतालों में भर्ती किया गया है। इलाज के बाद 205 मरीज ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिए गए हैं। 

उन्होंने कहा कि हमारे लिए प्रत्येक व्यक्ति का जीवन कीमती है और हम हर किसी को बचाने का भरसक प्रयास कर रहे हैं, लेकिन फिर भी दुर्भाग्यवश राज्य में कोविड-19 से 3 व्यक्तियों की जान गई है।


उन्होंने कहा कि राज्य में स्क्रीनिंग और टैस्टिंग पर बहुत जोर दिया जा रहा है। आशा वर्कर्स, आंगनवाड़ी वर्कर्स इत्यादि के साथ राज्य में कुल 20,792 टीमें बनाई गई हैं। प्रदेश के शत-प्रतिशत परिवारों की स्क्रीनिंग के लक्ष्य को पूरा करने के लिए पूरे उत्साह और सावधानी से कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्क्रीनिंग के दौरान जो भी कोराना संक्रमण के सम्भावित व्यक्ति मिलते हैं, उनके सैम्पल टैस्ट किए जा रहे हैं।


मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में अब तक 32.21 लाख लोग आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कर चुके हैं। इस समय पूरे प्रदेश में 155 कंटेनमेंट जोन हैं, जहां लॉकडाउन को सख्ती से लागू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस समय प्रदेश में लगभग 19 हजार मरीजों के लिए कोरंटाइन व्यवस्था व 9444 मरीजों के लिए आइसोलेशन बैड की व्यवस्था है। राज्य में 1101 वैंटिलेटर चालू हालत में हैं। इसके अतिरिक्त, सर्जिकल मास्क  एवं पीपीई किट्स की भी कोई कमी नहीं है।