ALL NATIONAL WORLD RAJASTHAN POLITICS HEALTH BOLLYWOOD DHARMA KARMA SPORTS BUSINESS STATE
जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2020प्रोग्राम की घोषणा
December 17, 2019 • Yogita Mathur • BOLLYWOOD

जयपुर 17 दिसम्बर । 23-27 जनवरी 2020 को, जयपुर के हरदिल अजीज डिग्गी पैलेस होटल में होने जा रहे साल के सबसे बड़े साहित्यिक जलसे, जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल का यह13वां संस्करण है|

 'दुनिया के सबसे बड़े साहित्यिक उत्सव' ने फेस्टिवल के 2020 के 250 से अधिक वक्ताओं की सूची जारी की, जिसमें देश-विदेश के श्रेष्ठ नाम शामिल हैं| फेस्टिवल हर साल की तरह इस बार भी वक्ताओं के तौर पर लेखकों, चिंतकों, राजनेताओं, पत्रकारों और लोकप्रिय सांस्कृतिक हस्तियों की मेजबानी करेगा, जो विभिन्न क्षेत्रों और भाषाओँ का प्रतिनिधित्व करेंगे| इनमें नोबेल, मैन बुकर, पुलित्ज़र, साहित्य अकादेमी, रेमन मैग्ससे और साउथ एशियाई लिटरेचर का डीएससी प्राइज प्राप्त करने वाले प्रतिष्ठित लेखक भी शामिल हैं|

प्रोग्राम में कला, फैशन व जीवनशैली, जीवनी, बिजनेस व अर्थव्यवस्था, जलवायु परिवर्तन, करेंट अफेयर्स, खान, जीवित भाषाएं, काव्य, विज्ञान व तकनीक, कृत्रिम  बुद्धिमत्ता, लिंग और लेखन प्रक्रिया जैसे विविध विषयों की भरमार होगी|

कुछ विशेष सत्रों में नोबल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी का सत्र 'पुअर इकोनॉमिक्स: फाइटिंग ग्लोबल पावर्टी', शामिल है, जिसमें वह विकसित अर्थव्यवस्था के प्रति अपनी फील्ड-रिसर्च का नजरिया प्रस्तुत करेंगे| वो समझाएंगे कि वास्तविक दुनिया में गरीबी मिटाने के लिए क्या उपाय किए जा रहे हैं| हमारी दुनिया को समझने के लिए यह एक प्रेरक सत्र रहेगा|

राजनैतिक दार्शनिक और प्रेरक आनंद गिरिधरदास ने अपनी कामयाब किताब विनर्स टेक आल: द इलीट शरेड ऑफ़ चेंजिंग द वर्ल्ड में उच्च वर्ग की पड़ताल की है| किताब 'दुनिया बदलने में' विश्व के रईसों के प्रयास पर रौशनी डालती है| आनंद गिरिधरदास से उद्यमी और निवेशक मोहित सत्यानंद चर्चा करेंगे| 

पिछले दशक में बाढ़ ने भारतीय शहरों को आक्रामक रूप से अपने आगोश में लिया है| मुंबई, सूरत, श्रीनगर, चेन्नई, पटना और केरल के कई शहर बाढ़ और नाले के पानी से भर गए थे| यह कोई इक्की-दुक्की घटना नहीं, बल्कि पर्यावरण पर बढ़ते खतरे का संकेत है| इस विषय पर मार्कस मोएंच के साथ अर्थशास्त्री, पर्यावरणविद और राजनेता जयराम रमेश, लेखक विजू बी और कृपा गे चर्चा करेंगे|

'एशिया राइजिंग', सत्र में लेखक और भूतपूर्व पुर्तगाली मंत्री ब्रूनो मार्केस, भारतीय प्रधानमंत्री के भूतपूर्व-राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन, और जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी के अर्थशास्त्र के प्रोफेसर दीपक नय्यर चर्चा करेंगे कि आज की इस नई दुनिया में एशिया का क्या स्थान है| शिवशंकर मेनन ने अपनी हालिया किताब, पास्ट प्रेजेंट: इंडिया इन एशियन जिओपॉलिटिक्स में एशिया पर विस्तार से लिखा है| दीपक नय्यर ने रिसर्जेंट एशिया लिखी, जिसमें पिछले पचास सालों में हुए विकास और आर्थिक बदलावों पर लिखा गया है और ब्रूनो मार्केस की हालिया किताब द डान ऑफ़ यूरेशिया: ऑन द ट्रेल ऑफ़ न्यू वर्ल्ड ऑर्डर, में यूरोप और एशिया के सम्बन्ध पर लिखा है|

लगभगसत्तरदेशोंमेंफैलीचीनकीविशालबेल्टऔरसड़कपरियोजना एकबुनियादीढांचाहै।बेल्ट एंड रोड: ए चाइनीज वर्ल्ड ऑर्डरके लेखक ब्रूनो मार्केस नई व्यापार नीति के तौर पर भारत और दक्षिण एशिया में, BRI की महत्वाकांक्षा और पहलु पर भारतीय लेखक मनोज जोशी और सुजीव शाक्य से चर्चा करेंगे| सत्र संचालन भूतपूर्व भारतीय विदेश सचिव निरुपमा राव करेंगी|

सत्र 'डूडलस ऑन लीडरशिप' में टाटा संस के डायरेक्टर आर.गोपालकृष्णन के साथ उद्यमी और निवेशक मोहित सत्यानंद बिजनेस जगत के लिए समुदाय और समाज के रिश्ते पर बात करेंगे| गोपालकृष्णन एक बिजनेस लीडर के सफर पर रौशनी डालते हुए, आज के समाज में उनकी भूमिका पर बात करेंगे|

कईलोगोंनेजेनेरिकदवाओंकेव्यापकउपयोगकोइक्कीसवींसदीकेसबसेमहत्वपूर्णसार्वजनिक-स्वास्थ्यविकासमेंसेएकमानाहै। आज, हमारी औषधीय मार्केट में लगभग 90 प्रतिशत जेनेरिक दवाएं हैं, जिनका बड़ा हिस्सा विदेशों में बनाया जाता है| हमारे डॉक्टर और अन्य लोग अक्सर हमें भरोसा दिलाते रहते हैं कि ये जेनेरिक दवाएं उस ब्रांडेड दवा की ही नक़ल है, बस इसकी कीमत कम है| लेकिन क्या यह वास्तव में सच है? इस क्षेत्र में किये गए लम्बे शोध के माध्यम से कैथरीन एबन 'बोटल ऑफ़ लाइज: द इनसाइड स्टोरी ऑफ़ द जेनेरिक ड्रग बूम' सत्र में सचाई से पर्दा उठाएंगी|

ब्रिटिश की प्रमुख विदेश संवाददाता क्रिस्टीना लैम्ब जानी-मानी पत्रकार सुहासिनी हैदर नुजीन के बारे में बात करेंगी| नुजीन जिसने युद्धरत सीरिया को छोड़, व्हीलचेयर पर बैठे-बैठे ही पूरे यूरोप का सफर तय किया| कामयाब किताब 'आई एम मलाला' की सह-लेखिका क्रिस्टीना लैम्ब ने नुजीन की कहानी के माध्यम से वैश्विक इमरजेंसी का मानवीय चेहरा सामने रखने की कोशिश की है| नुजीन की कहानी ने पहले ही लाखों लोगों के जीवन को प्रभावित किया है| अलेप्पो में पांचवें माले के अपार्टमेंट में फंसी लड़की, जो स्कूल तक नहीं जा सकती थी, उसने यूएस टेलीविजन के माध्यम से खुद इंग्लिश बोलना सीखा| जब वहां नागरिक रुद्ध छिड़ा और ISIS ने कब्जा किया, तो पहले तो नुजीन और उसका परिवार उनके गृह नगर कोबने गए, फिर तुर्की और फिर दूसरे लाखों शरणार्थियों के साथ यूरोप के शरणार्थी गृहों में पहुंचा दिए गए|

हिंदी की दो लोकप्रिय और प्रेरक लेखिकाएं अपने काम के माध्यम से महिलाओं का नजरिया प्रस्तुत करने की कोशिश करेंगी| बहु-पुरस्कृत और शानदार लेखिका चित्रा मुद्गल, और कई पुरस्कृत काव्य-संग्रह और उपन्यास लिखने वाली अनामिका से अनुवादक और लेखिका रोहिणी चौधरी 'एक ज़मीन अपनी: राइटिंग द फिमिनिन' सत्र में चर्चा करेंगी|

लेखन में कोई महिला की जिंदगी को कैसे चित्रित करोगे? महिला की जीवनी किसी पुरुष की जीवनी से कैसे भिन्न होगी? जीवनीकार बेट्नी हगस, जुंग चैंग, लिंडसे हिल्सुम और हैली रुबेनहोल्ड महिलाओं की जिंदगी लिखने के अनुभव को बयां करेगी| पत्रकार अनीता आनंद सत्र संचालन करेंगी|

एक और सत्र में प्रसिद्ध अदाकारा मधुर जाफरी, इंडियन खाने की आइकोनिक एम्बेसडर दिल्ली में बिताए  अपने सफ़र, इस्माइल मर्चेंट, जेम्स आइवरी और रुथ प्रवीर झाबवाला से जुड़ाव, और फिल्म-थियेटर के सफर पर चर्चा करेंगी| 86 वर्षीय अदाकारा, लेखिका से उपन्यासकार चंद्रहास चौधरी चर्चा करेंगे| 

कोंडे नास्ट ग्रुप में तीस साल का सुनहरा कैरियर देखने वाले निकोलस कोलेरिज पत्रिका के अपने अनुभव पर चर्चा करेंगे| उन्होंने मैगज़ीन क्षेत्र में 1970, 1980 और 1990 के दशक के विकास के साथ ही 21वीं सदी का डिजिटल युग भी देखा है| टेत्लेर से शुरुआत करते हुए, वह हार्पर्स एंड क्वीन के एडिटर-इन-चीफ बने, और फिर वो अगले तीन दशकों तक पब्लिशिंग इंडस्ट्री का बड़ा नाम रहे| अपने इसी सफ़र की विस्तार से चर्चा वो सत्र में करेंगे|

फेस्टिवल के दौरान, लेखिका और फेस्टिवल की सह-निदेशक, नमिता गोखले अपने नए उपन्यास, जयपुर जर्नल्स का लोकार्पण भी करेंगी| रंगीले जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल की पृष्ठभूमि में लिखा गया यह उपन्यास एक रूप में 'धरती के सबसे बड़े साहित्यिक शो' को लिखा गया प्रेम-पत्र है, तो दूसरे रूप में ये उन लाखों महत्वाकांक्षी लेखकों के नाम है, जो अपनी अप्रकाशित रचनाओं को झोले में लिए घूमते हैं| ये उन तन्हा लेखकों के नाम एक समर्पण है| नमिता गोखले की 18 किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनमें से 9 किताबें फिक्शन हैं| राजनयिक और लेखक शशि थरूर और कवि व गीतकार जावेद अख्तर के साथ वह अपने नए उपन्यास और अपने लेखक और फेस्टिवल डायरेक्टर के, दोहरे व्यक्तित्व पर चर्चा करेगी|

'द अनार्की' सत्र में इतिहासकार, लेखक और फेस्टिवल के सह-निदेशक विलियम डैलरिम्पल दुनिया की सबसे बड़ी कॉर्पोरेट पॉवर, ईस्ट इंडियन कंपनी और उसकी निर्ममता पर चर्चा करेंगे| जाने-माने लेखक मनु एस. पिल्लई सत्र परिचय देंगे|  

फिक्शन पर आधारित एक सत्र में, दुनिया के पांच मशहूर लेखक –एलिज़ाबेथ गिल्बर्ट, लीला स्लिमानी, अवनि दोषी, जॉन लंकास्टर और होवार्ड जैकबसनउपन्यास लिखने की कला पर डेमियन बार्र के साथ बात करेंगे| सत्र में फिक्शन से जुड़े सभी सवालों पर चर्चा की जाएगी| इसकी रचना? किसी चरित्र के मजबूत बनने की प्रक्रिया और पाठक कैसे उससे जुड़े पर बात होगी|

पूरे प्रोग्राम के लिए देखें: https://jaipurliteraturefestival.org/programme

लेखिका और जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल की को-डायरेक्टर नमिता गोखले ने कहा, “मानवीय कल्पना और सपनों को साकार करने के लिए, इस जनवरी जयपुर में लेखक और चिंतक जुटेंगे| हम दुनिया का सबसे बड़ा फ्री फेस्टिवल हैं और शायद सबसे युवा भी, क्योंकि यहां आने वाले श्रोताओं में 60% से अधिक 25 वर्ष से कम उम्र के होते हैं| हम इस संवाद को संस्कृति, समुदाय और पीढ़ियों के परे ले जाना चाहते हैं|”

लेखक, इतिहासकार और जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के को-डायरेक्टर, विलियम डेलरिम्पल ने कहा, “इस साल हमारे फेस्टिवल में दुनिया की श्रेष्ठ प्रतिभाएं शिरकत करने वाली हैं| कथेतर के क्षेत्र में हमारे वक्ताओं में दुनिया के श्रेष्ठ इतिहासकार, जीवनीकार, संस्मरण लेखक और यात्रा लेखक शामिल होंगे, जिनमें पुलित्ज़र पुरस्कार विजेता सितारे जैसे स्टीफन ग्रीनब्लाट, डेक्सटर फिल्किंस, आनंद गोपाल और सुकेतु मेहता शामिल हैं| बुकर विजेताओं में हमारे साथ होंगे होवार्ड जैकबसन, जॉन लंचेस्टर, लीला स्लिमानी और एलिजाबेथ गिल्बर्ट| हमारे अन्य महत्वपूर्ण अतिथियों में लैम सिस्से, साइमन आर्मिटेज, फोरेस्ट गंडर और पॉल मुल्डून का नाम लिया जा सकता है| इसके साथ ही हमारा विशेष ध्यान जलवायु परिवर्तन पर होगा, जिस पर बात करेंगे डेविड वाल्लास-वेल्स|”

टीमवर्क आर्ट्स के मैनेजिंग डायरेक्टर और जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के प्रोडूसर, संजोय के. रॉय ने कहा, “जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2020 में पूरे भारत और दुनिया के 250 से अधिक वक्ता हिस्सा लेंगे, जो जलवायु परिवर्तन, महिलाओं की आवाज़, यात्रा, विज्ञान और तकनीक, अर्थव्यवस्था और इतिहास जैसे विविध विषयों पर अपनी बात रखेंगे|”

धरती के सबसे बड़े साहित्यिक उत्सव' के तौर पर वर्णित जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल विचारों का शानदार उत्सव है।

पिछले दशक के दौरान जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल वैश्विक साहित्यिक आयोजन के तौर पर उभरा है, जिसने करीब 2000 वक्ताओं की मेजबानी की है और भारत तथा दुनिया भर के 10 लाख से ज्यादा पुस्तक प्रेमियों का स्वागत किया है।

हमारे बुनियादी मूल्यों में कोई बदलाव नहीं आया है: यह एक लोकतांत्रिक, गैर-गठबंधन मंच के तौर पर संचालित है, जो सभी को मुफ्त एवं निष्पक्ष पहुंच प्रदान करता है।

हर साल यह फेस्टिवल दुनिया के महानतम लेखकों, विचारकों, मानवतावादियों, राजनेताओं, बिज़नेस लीडर्स, खेल से जुड़ी हस्तियों और मनोरंजन से जुड़े लोगों को एक मंच पर लाता है, जहां वे खुलकर अपने विचारों को अभिव्यक्त करते हैं और विचारशील बहस एवं संवाद करते हैं।

लेखक व फेस्टिवल के निदेशक नमिता गोखले और विलियम डेलरिंपल के साथ ही प्रोड्यूसर टीमवर्क आर्ट्स दुनिया भर के वक्ताओं को राजस्थान के खूबसूरत सांस्कृतिक धरोहर के बीच, राजधानी जयपुर के शानदार डिग्गी पैलेस में आयोजित इस पांच दिवसीय आयोजन में शिरकत करने के लिए आमंत्रित करते हैं।

बीते समय में महोत्सव के वक्ताओं में नोबल विजेता जे.एम. कोयत्जे, ओरहान पामुक और मोहम्मद यूनुस, मैन बुकर पुरस्कार विजेता बेन ओक्री, मार्ग्रेट एटवुड और पॉल बेट्टी, साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता गुलज़ार, जावेद अख़्तर, एम.टी. वासुदेवन नायर के साथ ही साथ दिवंगत गिरीश कर्नाड,महाश्वेता देवी और यू.आर. अनंतमूर्ति के अलावा, साहित्यिक सुपरस्टार अमीष त्रिपाठी, चिमामंद नगोची अधिची और विक्रम सेठ ने अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज की है। इस सालाना जलसे को साहित्य के दायरे से बाहर निकलते हुए फेस्टिवल ने अमर्त्य सेन, अमिताभ बच्चन, दिवंगत ए.पी.जे. अब्दुल कलाम, 14वें दलाई लामा, ओपरा विनफ्रे, स्टीफन फ्राई, थॉमस पिकेटी और अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई की भी मेजबानी की है।

जयपुरलिटरेचरफेस्टिवलटीमवर्कआर्ट्सकामुख्यआयोजनहै।टीमवर्कआर्ट्सदुनियाके 40 शहरोंमें 25 सेअधिकबेहदप्रतिष्ठितपरफॉर्मिंगआर्ट्स, विजुअलआर्ट्सऔरलिटरेरीफेस्टिवल्सकाआयोजनकरतीहै।

पिछलेकुछवर्षोंमेंटीमवर्कआर्ट्सनेजेएलएफकाआयोजनब्रिटिशलाइब्रेरीकेसाथहीबोल्डरजेएलएफ, जेएलएफह्यूसटन, जेएलएफन्यूयॉर्कऔरजेएलएफएडिलेडकाआयोजनकियाहै। 2019 में जेएलएफ दोहा का भी पहली बार आयोजन हुआ|

भारत की कलाओं को उनकी गहराई, विविधता और रहस्य में समझने के लिए और उसे दुनिया के सामने लाने के लिए कड़े परिश्रम और ध्यान की आवश्यकता है| इससे भी अधिक टीमवर्क आर्ट कलाकारों और कला से प्रेम और सम्मान करता है|

टीमवर्क आर्ट की प्रतिबद्धता परफोर्मिंग आर्ट्स, सोशल एक्शन और कॉर्पोरेट वर्ल्ड के बीच तालमेल बिठाने की है| एंटरटेनमेंट विशेषकर डाक्यूमेंट्री, फ़ीचर फिल्म, टेलीविजन,साहित्य,कलाहमारा आधार है, और इनमें उभरते कलाकारों को हम विश्व पटल पर अंकित करना चाहते हैं|

 

यह ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, मिस्र, फ्रांस, जर्मनी, हांगकांग, इटली, कोरिया, सिंगापुर, दक्षिणअफ्रीका, स्पेन, ब्रिटेन और अमेरिका जैसे देशों के 40 से अधिक  शहरों में 25 से ज़्यादा कला, दृश्य कला और साहित्य के क्षेत्र के प्रतिष्ठित उत्सवों का आयोजन करती है।

हर साल, हम 11 देशों में 25 फेस्टिवल का आयोजन करते हैं, जिनमें ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, मिस्र, जर्मनी, फ़्रांस, होन्ग कोंग, इजरायल, स्कॉटलैंड, सिंगापुर, साउथ अफ्रीका, स्पेन, यूके और यूएसए जैसे देश शामिल हैं| टीमवर्क आर्ट्स दुनिया के सबसे बड़े मुफ्त फेस्टिवल का आयोजन करता है, जैसे जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल, दिल्ली में इशारा इंटरनेशनल पपेट फेस्टिवल, महिंद्रा एक्सीलेंस इन थियेटर अवार्ड  फेस्टिवल, साउथ अफ्रीका में इंटरनेशनल फेस्टिवल शेयर्ड हिस्ट्री इत्यादि|

हमारे म्यूजिक कार्यक्रम में 'बॉलीवुड लव स्टोरी' शामिल है| ये ऑस्ट्रिया, जर्मनी, नीदरलैंड, साउथ अफ्रीका, स्पेन, स्विटज़रलैंड और मिस्र में होने वाला म्यूजिकल टूर है|भारत में हमारे इंटरनेशनल फेस्टिवल हैं बोंजौर इंडिया| इसका आयोजन फ़्रांस के साथ भारत के 18 शहरों में होता हैं, जिसमें दुनिया भर के 250 से अधिक डिजाइनर, कलाकार इत्यादि हिस्सा लेते हैं|