ALL NATIONAL WORLD RAJASTHAN POLITICS HEALTH BOLLYWOOD DHARMA KARMA SPORTS BUSINESS STATE
भाजपा में उम्मीदवार को लेकर टकराव  
June 17, 2020 • Anil Mathur • POLITICS

जयपुर,17 जून । राज्य सभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी प्रथम वरियता उम्मीदवार के जिताने को लेकर अन्तर्रात्मा की आवाज पर मत देने की खबरे आ रही है ।
  
राजनीतिक गलियारों में चल रहीं हलचल के अनुसार भाजपा का एक गुट दूसरी वरियता के उम्मीदवार औंकार सिंह लखावत को जिताना चाहता है जबकि एक वर्ग पहले वरियता के उम्मीदवार राजेन्द्र गहलोत को जिताना चाहता है ।
  
राजस्थान विधान सभा में भाजपा और उसके समर्थक उम्मीदवारों की संख्या बल को देखते हुए प्रथम वरियता उम्मीदवार राजेन्द्र गहलोत ही जीत सकते है यदि भाजपा में ​मतों का किसी भी कारण से बिखराव होता है तो प्रथम वरियता के उम्मीदवार राजेन्द्र गहलोत परेशानी में पड सकते है ।
  
 भाजपा आलाकमान राजेन्द्र गहलोत की जीत तय मानते हुए कांग्रेस एवं निर्दलीय में तोडफोड करने की नियत से अचानक दूसरे उम्मीदवार पूर्व राज्य सभा सदस्य औंकार सिंह लखावत को मैदान में उतार दिया । भाजपा में वरियता क्रम से हटकर मतों में संभावित बिखराव को रोकने के लिए सभी विधायकों को एक होटल में लाकर बाडाबंदी कर दी है । कांग्रेस पर बाडाबंदी का आरोप लगाने वाली भाजपा खूद भी उसी रास्ते पर आ गयी ।राजनीतिक क्षेत्र में जोरों से चर्चा है कि क्या भाजपा में भी कथित गुटबाजी करिश्मा दिखायेगी ?
 भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया से इस सम्बध में बातचीत करनी चाही लेकिन उनसे सम्पर्क नहीं हो सका ।
 भाजपा सूत्रों ने पार्टी के प्रथम वरियता एवं द्वितीय वरियता को लेकर किसी प्रकार की दिक्कत से इंकार करते हुए कहा कि प्रदेश अध्यक्ष पहले ही इस बारे में ऐलान कर चुके है कि प्रथम वरियता का मत राजेन्द्र गहलोत को मिलेगा ।
 सूत्रों के अनुसार जिस होटल में भाजपा एवं भाजपा का समर्थन कर रहे विधायक रूके हुए है वहां अभी तक पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे समेत चार विधायक नहीं पहुंचे है । इन सभी ने किन्ही कारणवश नहीं आने की मंजूरी ले रखी है ।
  
 इधर, कांग्रेस के युवा तुर्क परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने भाजपा पर हल्ला बोलते हुए कहा कि  भाजपा को दो उम्मीदवार खडे करना महंगा पड़ रहा है। भाजपा के पास एक राज्यसभा उम्मीदवार जीताने के पर्याप्त वोट थे, लेकिन भाजपा ने अलोकतांत्रिक व गैर कानूनी तरीके से कांग्रेस खेमे में निर्दलीय उम्मीदवारों में जोड़तोड़ के जरिये षडयंत्रपूर्वक मध्यप्रदेश व गुजरात की तर्ज पर विधायकों की खरीद फरोख्त की कोशिश की, जिसमें नाकाम रही। 
 खाचरियावास ने कहा कि अब भाजपा का षडयंत्र भाजपा के लिये ही संकट बन गया है क्योंकि भाजपा के विधायकों को अपने अधिकृत उम्मीदवार राजेन्द्र गहलोत को जीताने में जोर आ रहा है। यदि औंकार सिंह लखावत को भाजपा के उम्मीदवार अपनी अन्तर्रात्मा की आवाज पर वोट देते हैं तो राजेन्द्र गहलोत का हारना तय है।
  उन्होने क​हा कि  ऐसी स्थिति में विधायकों को मनाने में भाजपा को जोर आ रहा है, इसलिये भाजपा ने पांच सितारा होटल में कैम्प किया है। कल तक कांग्रेस पर आरोप लगाने वाली भाजपा आज खुद अपने ही बिछाये जाल में फंस गई है। भाजपा की अन्दरूनी लडाई राज्यसभा चुनाव में वोट के जरिये खुलकर सामने आ जायेगी और भाजपा ने जो पाप कांग्रेस पार्टी को हराने के लिये किया था, वो भाजपा के उम्मीदवार की हार का कारण बनेगा।
 
खाचरियावास ने कहा कि भाजपा नेता लगातार झूठी बयानबाजी करके लोकतंत्र की मर्यादाओं का अपमान कर रहे हैं। यदि भाजपा ईमानदार होती तो उन्हें दो उम्मीदवार खडे करने की जरूरत ही नहीं पडती, अपने विधायकों को एकजुट रखने के लिये कैम्प करना पडा रहा है। 
 उन्होने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने भाजपा के षडयंत्र को खत्म करने के लिये ही विधायकों का कैम्प किया, इससे भाजपा अपने षडयंत्र में कामयाब नहीं हो पाई। .......